दिलीप कुमार या शाहरुख खान- कौन ज्यादा सफल ‘देवदास’?, किसे मिला बेस्ट एक्टर का अवार्ड?

बॉलीवुड में 2 देवदास फिल्मे बनी, दिलीप  कुमार और शाहरुख खान की :

आज से तकरीबन 100 साल पहले ‘शरत चंद्र चटर्जी’ ने अपनी कलम से ‘देवदास’ नामक एक रोमांटिक उपन्यास लिखा था। तब शायद लेखक को इस बात का अंदाजा भी नहीं था कि उनकी लिखी किताब के ईद-गिर्द 23 फिल्मों की कहानी लिखी जाएगी। जी हां, आज आप शाहरुख खान के जरिए जिस देवदास की कहानी को जानते और देखते हैं उस देवदास की कहानी पर मलयालम, तमिल, तेलुगू सहित कई भाषाओं में कई फिल्में बनी हैं। हिंदी भाषा में दो फिल्में बनाई गई हैं। पहली फिल्म 1955 में आई थी। बिमल रॉय द्वारा निर्देशित इस फिल्म में देवदास का किरदार दिलिप कुमार ने निभाया था। इसके 47 साल बाद यानी 2002 में संजय लीला भंसाली की देवदास रिलीज हुई थी, जिसमें ऐश्वर्या राय, शाहरुख खान और माधुरी दीक्षित मुख्य भूमिका में थे।

दोनों फिल्मों ने लागत से दोगुना कमाया था 

संजय लीला भंसाली की ‘देवदास’ फिल्म उस वक्त रिलीज हुई सबसे महंगी और साल की सबसे ज्यादा कमाने वाली फिल्म थी। आज से 20 साल पहले इस फिल्म को तकरीबन 50 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया था। लोगों को यह फिल्म इस कदर पसंद आई थी कि ‘देवदास’ ने न केवल बॉक्स ऑफिस पर रिकॉर्ड तोड़े थे बल्कि बजट से दोगुना 104 करोड़ रुपये की कमाई भी की थी। वहीं, 1955 में आई दिलीप कुमार की ‘देवदास’ की बात करें तो करीब 50 लाख की लागत से बनी इस फिल्म ने 1 करोड़ रुपये का कारोबार किया था। यानी दोनों फिल्मों ने लागत से दोगुना कमाया था।

बजट को लेकर शेक के निगाहो में आ गए थे निर्माता 

दिलचस्प बात यह है कि उस वक्त ‘देवदास 2002′ का बजट इतना ज्यादा था कि लोगों को यकीन नहीं हो रहा हैं। लोग निर्माता पर फिल्म के लिए अंडरवर्ल्ड से पैसे लेना का तक आरोप लगा रहे थे, जिसकी वजह से निर्माता भरत शाह को पुलिस ने गिरफ्तार तक कर लिया था। इस फिल्म का क्रेज इस कदर था कि अगले 4 साल तक कोई फिल्म शाहरुख खान की ‘देवदास’ का रिकॉर्ड नहीं तोड़ पाई।

किसे मिला था बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड ?

संजय लीला भंसाली, अनुराग कश्यप और सुधीर मिश्रा जैसे कई फिल्म निर्माताओं ने देवदास के लिए एक नया दृष्टिकोण लाने की कोशिश की थी। लेकिन बीमल रॉय का संस्करण ही एकमात्र ऐसा था जो उपन्यास के करीब था। हालांकि शाहरुख खान और दिलीप कुमार, दोनों को ही बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड मिला था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *